बनारसी पान की खेती से अब नुकसान | Banarasi Paan Ki Kheti

0
259
बनारसी पान की खेती से अब नुकसान | Banarasi Paan Ki Kheti

Banarasi Paan Ki Kheti, बनारसी पान की खेती, plant, Farming

भारत के लोगों में बनारसी पान काफी ज्यादा प्रचलित है अगर लोगों को Banarasi Paan मिल रहा है तो बिना खाए नहीं रह सकते.

यह Paan सबसे ज्यादा वाराणसी बनारस में सबसे ज्यादा फेमस है तो अगर कोई वाराणसी जाता है तो बनारसी पान खाना बिल्कुल भी नहीं भूलता और इसकी लोकप्रियता आज से नहीं यह कई वर्षों से चली आ रही है।

इस पान को ज्यादातर लोग शौक से ही खाते हैं और कई लोग इस पान को बीमारी की रोकथाम के लिए भी उपयोग करते हैं क्योकि पान मे औसधीय गुण भी पाये जाते है जो कई रोगो के निवारण मे काम आता है ।

पान का उपयोग धार्मिक स्थलों में भी किया जाता है और कई त्योहारो मे पान पत्ती के बिना पुजा सम्पन्न ही नहीं होता है ।

लेकिन क्या आपको पता है कि Banarasi Paan कहां से लाया जाता है और इसकी खेती कहां होती है और कैसे होती है तो इसके बारे में हम पूरी चर्चा करने वाले हैं की बनारसी पान कैसे लोगों में प्रचलित हुआ और कहां से इसकी सप्लाई होती है और लोगो तक पाहुचती है।

खेती कहां होती है

दुनियाभर में प्रचलित बनारसी पान की खेती बिहार के मगही क्षेत्र में सबसे ज्यादा होता है और बिहार के लगभग 15 जिलों में इसकी खेती की जाती है पान की खेती वहाँ कई वर्षो से किया जा रहा है और बनारसी पान को बिहार से ही वाराणसी सप्लाई किया जाता है।

खेती कैसे की जाती है

यह बेल जैसी लताओ वाली पौधा होती है जिसके लिए छायादार जगह की आवश्यकता पड़ती है और इसके लिए सबसे अच्छा तापमान 20 सेंटीग्रेड माना जाता है ।

जिसमें इसके पत्ते अच्छे फैलते हैं और यू कहें तो production अच्छा होता है इसकी रोपाई की बात करें तो जून से अगस्त महीनों में इसकी रोपाई की जाती है और इसकी खेती के लिए छायादार जगह की प्रबंध किया जाता है इस तरह से Banarasi Paan की खेती की जाती है।

बनारसी पान से किसानों को कैसे नुकसान हो रहा है

बिहार के किसानों का कहना है कि अब बनारसी पान में पहले जैसे कमाई नहीं रह गई है क्योंकि समय के साथ जिस हिसाब से महंगाई बढ़ी है उस हिसाब से पान की रेट नहीं बढ़ा है ।

हमें पान 15, 20 साल पहले हमारे पूर्वज बेचते थे उसी कीमत में आज पान बेचना पड़ रहा है जिसके कारण इसमें अब कमाई नहीं बची है।

आज के समय में बनारसी पान की खेती करने वालों कि 90 परसेंट लोगों में अब मात्र 50 परसेंट ही रह गया है मतलब 40 परसेंट लोग अब बनारसी पान की खेती छोड़ चुके हैं क्योंकि अब पान से कमाई भी बहुत कम हो गया है।

क्योंकि आजकल पान खाने वाले भी पान मसाला गुटखा खाने लग गए हैं इसी कारण बनारसी पान की खेती अब नुकसानदायक साबित हो रहा है।

तो दोस्तो कैसी लगी बनारसी पान की जानकारी हमे कॉमेंट के माध्यम से जरूर बताए।

आपका प्रेमपूर्वक धन्यवाद,

और पढे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here